दिल्ली: लूटपाट की वारदातों से राजधानी में आतंक का पर्याय बने ‘रहीस गिरोह’ का मास्टरमाइंड शागिर्द के साथ धरा गया, नॉर्थ वेस्ट डिस्ट्रिक्ट की डीसीपी उषा रंगनानी के मार्गदर्शन व PP आजादपुर सब्जी मंडी के इंचार्ज आशीष कुमार के नेतृत्व में गठित टीम ने पकड़ा

नई दिल्ली। दिल्ली पुलिस ने राजधानी के विभिन्न इलाकों में लूट/स्नैचिंग/चोरी से दिल्ली पुलिस की नींद उड़ा रखे ‘रहीस गिरोह’ के मास्टरमाइंड को उसके एक अन्य प्रमुख सहयोगी के साथ गिरफ्तार कर लिया है। पकड़े गए लुटेरों से Ps महिंद्रा पार्क से चोरी हुई एक बाइक के अलावा, एक कंट्री मेड पिस्टल व दो जिंदा कारतूस की बरामदगी हुई है। इसके अलावा इनसे कुछ मामलों के खुलासे की खबर भी आ रही है। निःसंदेह यह दिल्ली पुलिस की एक बड़ी कामयाबी है।

सब इंस्पेक्टर आशीष कुमार(इंचार्ज, PP आजादपुर सब्जी मंडी)

यह कामयाबी मिली है, नॉर्थ वेस्ट डिस्ट्रिक्ट की डीसीपी Usha Rangnani के मार्गदर्शन, Ps महिंद्रा पार्क के अधीन पुलिस पोस्ट ‘आजादपुर सब्जी मंडी’ के इंचार्ज सब इंस्पेक्टर आशीष कुमार के निर्देशन तथा थानेदार ध्रुवराज के नेतृत्व में गठित एक विशेष पुलिस टीम को। पुलिस टीम में तेज-तर्रार कांस्टेबल बृजलाल, लोकेंद्र व जांबाज कांस्टेबल गिरिराज शामिल थे।

पुलिस टीम की गिरफ्त में दोनो लुटेरे

पकड़े गए लुटेरों की पहचान गिरोह के मास्टरमाइंड 29 वर्षीय रहीस, पुत्र नासिर, निवासी मकान नंबर H-3/1303, जहांगीरपुरी (दिल्ली) और 32 वर्षीय राजा उर्फ मोनू, पुत्र विजय, निवासी झुग्गी 4/सी-996, शाह आलम बंद रोड, जहांगीरपुरी (दिल्ली) के रूप में हुई है।
दोनो शातिर लुटेरों को इलाके के पीर बाबा मजार रोड से उस समय गिरफ्तार किया गया, जब यह दोनो अपराधी चोरी की बाइक पर लूट के लिए अपने शिकार की तलाश में थे।
पकड़े गए लुटेरों की जहां तक आपराधिक फेहरिस्त की बात है, बहुत लंबी है। दोनो Ps जहांगीरपुरी के घोषित अपराधी हैं। आरोपियों में गिरोह सरगना रहीस के खिलाफ दिल्ली के विभिन्न थानों में 22 मुकदमे पहले से दर्ज हैं। जबकि इसके सहयोगी राजा पर पहले से 20 मामले दर्ज हैं।
बहरहाल पुलिस टीम की तफ्तीश जारी है।